वाडिया ने कहा कि, बीसीसीआई को इसपर सोचने की जरूरत है, क्योंकि अगर आपने प्लान भी किया हुआ है और कहीं आगे चलकर केस और बढ़ने शुरू हो जाते हैं तो ऐसे में आप क्या करेंगे. तो वहीं ये टूर्नामेंट बिना विदेशी खिलाड़ियों के मुमकिन नहीं है.

बीसीसीआई सितंबर- अक्टूबर के महीने में आईपीएल आयोजन करने का प्लान बना रही है लेकिन फिलहाल अभी भी इसकी पुष्टि नहीं हो पाई है. लेकिन इस बीच अगर उसी महीने ऑस्ट्रेलिया में होने वाला टी20 वर्ल्ड कप रद्द होता है तो आईपीएल को नया विंडो मिला सकता है और फिर इसका आयोजन करवाया जा सकता है.

वहीं इस टूर्नामेंट को लेकर आईपीएल फैंचाइजी की भी मिली जुली राय आ रही है. राजस्थान रॉयल्स की मानें तो आईपीएल का आयोजन सिर्फ भारतीय खिलाड़ियों के साथ ही करवा देना चाहिए. जबकि रॉयल्स के इस आइडिया को चेन्नई और पंजाब की टीमें पहले ही नकार चुकी हैं. वाडिया ने कहा कि, आईपीएल एक इंटरनेशनल टूर्नामेंट है. और इसे पूरी दुनिया देखती है. ऐसे में इसे एक इंटरनेशनल प्लेटफॉर्म और स्टार्स की जरूरत है.

नाडिया ने आगे कहा कि, ये भी देखना होगा कि कौन सा विदेशी खिलाड़ी यहां मैच खेलने आता है. फिलहाल बीसीसीआई को इसपर सोचने की जरूरत है, क्योंकि अगर आपने प्लान भी किया हुआ है और कहीं आगे चलकर केस और बढ़ने शुरू हो जाते हैं तो ऐसे में आप क्या करेंगे.

कई एक्सपर्ट्स की मानें तो कोरोना वायरस जुलाई और अगस्त के महीने में भारत में और बढ़ेगा. नाडिया ने आगे कहा कि, इस वायरस से लड़ने के लिए सभी को सोचना होगा. क्योंकि अभी इसमें समय है. एक बार वायरस कम होने के बाद हमारे सामने ये साफ हो जाएगा कि आईपीएल का आयोजन कब करवाया जाएगा.

नाडिया ने आगे कहा कि उन्हें पूरा भरोसा है कि भारतीय दर्शक आईपीएल देखेंगे क्योंकि सभी को पता है कि हम किसी परेशानी से गुजरे हैं. जर्मनी में पहले ही फुटबॉल की शुरूआत हो चुकी है जबकि वहां वायरस का प्रकोप बेहद ज्यादा है. लेकिन हमें यहां और समय देकर आईपीएल का आयोजन करवाना चाहिए.

Source link